निकल खुद की तलाश में

खुद को तू आजाद कर आजाद कर इस दुनिया की माया से मकसद पहचान खुद की छोड़ दे वह माकन जिसमे तू है गुलाम पहचान कर खुद की तू निडर है राही अपनी नैया खुद संभाल ना दे चौकी दूसरों को छोड़ दे वो लोगो को जिस के इशारो पर था कभी तू नाचता अपना…